18 Oct 2018

स्वामीआयुर्वेद स्वास्थ्यसूत्रमाला - 65

दही : रोज खाना चाहिए की नहीं ?


Vaidya Somraj Kharche, M.D. Ph.D. (Ayu) 18 Oct 2018 Views : 347
Vaidya Somraj Kharche, M.D. Ph.D. (Ayu)
18 Oct 2018 Views : 347

दही read more

04 Oct 2018

स्वामीआयुर्वेद स्वास्थ्यसूत्रमाला - 64

पेट्रोलियम जेली का उपयोग कर रहे हो? सावधान !!


Vaidya Somraj Kharche, M.D. Ph.D. (Ayu) 04 Oct 2018 Views : 674
Vaidya Somraj Kharche, M.D. Ph.D. (Ayu)
04 Oct 2018 Views : 674

पेट्रोलियम जेली का उपयोग कर रहे हो? सावधान !!

प्राचीन काल के ज्ञान की एक विशेषता होती थी की मनुष्य जो भी ज्ञान अर्जित करता था, उसका यथोचित उपयोग करके वह अपने जीवन-प्रवास को सुखी बनाने का प्रयत्न करता था......

read more

20 Sep 2018

स्वामीआयुर्वेद स्वास्थ्यसूत्रमाला - 63

मंजन के बाद टूथपेस्ट का उपयोग


Vaidya Somraj Kharche, M.D. Ph.D. (Ayu) 20 Sep 2018 Views : 220
Vaidya Somraj Kharche, M.D. Ph.D. (Ayu)
20 Sep 2018 Views : 220

मंजन के बाद टूथपेस्ट का उपयोग

सुबह नींद से जागने के बाद मुखशुद्धि के लिए सभी भारतीय प्राचीन काल से मंजन का उपयोग किया करते थे। परंतु ब्रिटिश आये और हमारी दिनचर्या और पूर्ण जीवनशैली ही बदल गई। मंजन की जगह हम लोग टूथपेस्ट का उपयोग करने लगे और टूथपेस्ट का उपयोग कर अपने आप को आधुनिक समझने लगे। टूथपेस्ट के उपयोग का परिणाम यह निकला की पहले सिर्......

read more

06 Sep 2018

स्वामीआयुर्वेद स्वास्थ्यसूत्रमाला - 62

रुग्ण का स्वभाव कैसा होना चाहिए?


Vaidya Somraj Kharche, M.D. Ph.D. (Ayu) 06 Sep 2018 Views : 326
Vaidya Somraj Kharche, M.D. Ph.D. (Ayu)
06 Sep 2018 Views : 326

रुग्ण का स्वभाव कैसा होना चाहिए?

कुछ रुग्ण ऐसे होते है की उनकी तकलीफ एकदम छोटी मतलब सुखसाध्य, सहजसाध्य (easily curable) होती है। फिर भी कई दिनो, महीनों या वर्षो से वह तकलीफ 'जैसे थे' बनी हुई होती है। ठीक ही नही होती। ऐसे रुग्ण जब डॉक्टर के पास वैद्यकीय सलाह के लिए आते है, तो डॉक्टर भी सोच मे पड जाते है की रोग छोटा होने के बावजूद भ......

read more

23 Aug 2018

स्वामीआयुर्वेद स्वास्थ्यसूत्रमाला - 61

किडनी फेल्युअर और आयुर्वेद


Vaidya Somraj Kharche, M.D. Ph.D. (Ayu) 23 Aug 2018 Views : 361
Vaidya Somraj Kharche, M.D. Ph.D. (Ayu)
23 Aug 2018 Views : 361

किडनी फेल्युअर और आयुर्वेद

कई वर्ष पहले का और आज का सामाजिक चित्र देखोगे, तो आपको एक बात स्पष्ट रूप से पता चलेगी की सन 2000 तक किडनी फेल्युअर के रोगी सफेद शेर जैसे दुर्लभ थे और आज किडनी फेल्युअर का रोगी देखना एकदम सामान्य सी बात हो गई है। आज हर 100 लोगो में से 3 लोग......

read more